Ek Thi Gaura – Amarkant

मित्रों, प्रस्तुत है अमरकांत की कहानी “एक थी गौरा”| सहकार रेडियो के लिए इसे पवन सत्यार्थी ने अपनी आवाज़ में रिकॉर्ड किया है| कहानी को हमने हिंदी समय की वेबसाइट से साभार लिया है| आशा है ये कहानी आपको पसंद आएगी|
ये कहानी आपको कैसी लगी ? कमेन्ट में हमें ज़रूर बताइएगा और अगर कहानी आपको अच्छी लगी हो तो अपने मित्रों और सगे-संबंधियों को ज़रूर सुनवाइएगा और इसे लाइक शेयर करके हमारी मुहिम का हिस्सा ज़रूर बनिए| आप अगर व्हात्सप्प पर सहकार रेडियो की सामग्रियां पाना चाहते हैं, तो 9617226783 पर अपने व्हात्सप्प एकाउंट से संपर्क करें|

यदि आपको हमारा यह कार्यक्रम अच्छा लगा हो, और आप चाहते हैं कि हम यूं ही ऐसे कार्यक्रम लगातार बनाते रहें, तो यथासंभव आर्थिक सहयोग (DONATE) करें|

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: